Ransomware Cyber Attack Kya Hai ? Ransomware Attack Se Apne System Ko Safe Kaise Rakhe.

india समेत दुनियाभर के 100 देशों में इतिहास का सबसे बड़ा साइबर अटैक हुआ है जिसका नाम Ransomware हैै इस attack की शुरुआत Friday को यूके की नेशनल हेल्थ सर्विस से हुई. यूके के कई हॉस्पिटल्स में कम्प्यूटर्स और फोन बंद हो गए. इसके बाद कई देशों में अस्पतालों, बड़ी कंपनियों और सरकारी दफ्तरों की वेबसाइट्स पर अटैक हुआ. यह ऐसा वायरस है जिससे डाटा लॉक हो जाता है. उसे अनलॉक करने के लिए हैकर्स bitcoins या doller में रकम मांगते हैं, Bitcoin क्या है इस बारे में जानने के लिए यह click करे.

Ransomware Cyber Attack Kya Hai ?

Ransomware Attack एक ऐसा Cyber Attack है जिसमें एक वायरस फाइल वाला सॉफ्टवेर किसी के कंप्यूटर में इंटरनेट के माध्यम से घुस जाता है और उसके पुरे System को lock कर देता है. यह virus इतना खतरनाक होता है की आप किसी भी तरीके से अपने data को दोबरा open नहीं कर सकते हो जबतक आप अपने system को unlock करने के लिए पैसे नहीं चूका देते. साइबर अटैक के लिए WannaCry डिक्रिप्टर का इस्तेमाल किया गया, ये माइक्रोसॉफ्ट विंडोज सिस्टम के लिए खतरा है, रैनसमवेयर तब ज्यादा असर करता है जब उसे आउटडेटेड सॉफ्टवेयर पर छोड़ा जाता है.

यह Ransomware Virus कंप्यूटर के हर एक Drive को जाम सा कर देता है जो तब तक आप उपयोग नहीं कर सकते जब तक आप (Ransom) यानि की फिरौती के पैसे send कर नही देंते. जो कंप्यूटर Ransomware की चपेट में आ जाता है. उस computer के screen पर हमेशा message आता रहता है जिस में Payment to unlock का option दीखता रहता है example के लिए नीचे का image देखिये. यह Attack ज्यादा तर Microsoft के computers में हुआ है, साथ ही विंडोज पर चलने वाले स्टैंडअलोन कम्प्यूटर्स पर इसका असर बहुत ज्यादा पड़ा है.

Ransomware Cyber Attack Kya Hai ? Ransomware Attack Se Apne System Ko Safe Kaise Rakhe.

Ransomware WannaCry Cyber Attack se Jude Sawal Jawab.

Ransomware Attack In India – भारत पर कितना असर ?

भारत में इस वायरस का असर आंध्र प्रदेश के पुलिस नेटवर्क पर पड़ा है. आंध्र पुलिस का 25% इंटरनेट नेटवर्क शनिवार सुबह ठप्प पड़ गया जिसमे चित्तूर, कृष्णा, गुंटूर, विशाखापट्टनम और श्रीकाकुलम जिलों में 18 पुलिस डिपार्टमेंट्स के कम्प्यूटर ठप्प पड़ गए. इसी के अलावा और भी कई सारे असर इंडिया में देखने को मिली है जिसके चलते पूरी दुनिया ransomware attack में भारत 3 नंबर आगया है.

india में ransomware attack होंने केा मुख्य कारण रहा भारत मे सबसे ज्यादा microsoft के computer इस्तेमाल किये जाते है और यह सभी का OS xp के होते है जिसका update आना अब बंद हो चुका है, अमेरिका जैसे advance टेक्नोलॉजी use करने वाले देश मे यह अटैक बहुत हुआ है उसके मुकाबले में india तो बहुत ही old वर्शन के सॉफ्टवेयर use करता है जिसके चलते इस अटैक से भारत को बहुत नुकसान हुआ है.

ransomware attack के चलते भारत के कई प्रांत में हेल्पलाइन शुरू की गयी है अगर आप ransomware के पीड़ित हो तो आप इस हेल्पलाइन का फायदा ले सकते हो. ramsomware के चलते आने वाले 4-5 दिन इंडिया के सभी ATM बंद कर दिए गए है और सभी ATM के software update किये जारे है. साथ ही भारत के कई शासकीय office में भी online काम को बंद कर दिया गया है इन सभी चीज़ों से हमे यही पता चकता है कि इस virus से भारत को बहुत ज्यादा नुकसान हुआ है.

Ransomware साइबर अटैक किसने किया ?

हर कोई जानना चाहता है ransomware attack किसने किया और कैसे चलिए हम आपको थोड़ी details में बताने की कोशिश करते है, इस सॉफ्टवेयर को 14 अप्रैल को एक ग्रुप ‘शैडो ब्रोकर्स’ ने बनाया और इसे ऑनलाइन डाल दिया, दावा किया गया कि अमेरिका की नेशनल सिक्युरिटी एजेंसी ( NSA ) से साइबर वेपन चोरी किया गया जिसके चकते यह virus बना है. हालांकि अभी तक ये साफ नहीं है कि क्या ग्रुप इसे और फैलाएगा ?

Ransomware सबसे बड़ा सायबर अटैक क्यूँ है ?

आप यह सोच रहे होंगे कि इससे पहले कोई बड़ा सायबर अटैक नही हुआ क्या ? तो मैं आपको बता दु इससे पहले 2013 में याहू का डेटा चोरी हुआ था, करीब 1 अरब अकाउंट्स से डाटा चोरी किया गया था लेकिन दुनिया के 100 देशों में इस तरह के साइबर अटैक का पहला मामला है ransomware cyber attack. फिनलैंड की साइबर सिक्युरिटी कंपनी एफ-सिक्योर के चीफ रिसर्च अफसर माइको हाइपोनेन के मुताबिक रैनसमवेयर इतिहास का सबसे बड़ा साइबर अटैक है.

ransomware attack का सबसे ज्यादा असर किस देश पर हुआ.

ब्रिटेन की नेशनल हेल्थ सर्विस ( NHS ) को सबसे पहले हैक किया गया. साइबर अटैक का सबसे ज्यादा असर इसी से जुड़े हॉस्पिटल्स पर पड़ा. कई हॉस्पिटल्स में कंप्यूटर्स और फोन बंद हो गए. गंभीर हालत वाले पेशेंट्स को दूसरे हॉस्पिटल्स में शिफ्ट करना पड़ा. कम्प्यूटर स्क्रीन पर दिखने वाले पॉपअप मैसेज में एक काउंटडाउन भी शो हो रहा है. इसमें फिरौती देने के लिए हैकर्स ने अगले शुक्रवार तक का वक्त दिया है. अगर देश की बात की जाए तो रूस को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ वही दूसरे नंबर ब्रिटेन और तीसरे नंबर पर भारत का नाम आता है जहाँ ransomware attack का असर जायद दिखाई देर है और आने वाले कुछ महीने इसका असर सभी देशों में दिखता रहेगा.

Ransomeware attack कैसे हुआ, क्या डिमांड कर रहे हैं हैकर्स ?

रैनसमवेयर एक तरह का सॉफ्टवेयर वायरस है, इसके कंप्यूटर में आते ही आप अपनी कोई भी फाइल का इस्तेमाल नहीं कर सकते, अगर आप दोबारा फाइल खोलना चाहेंगे तो आपको हैकर्स को 300 बिटकॉइन (करीब 3.25 करोड़ रुपए) चुकाने होंगे, पैसा तय वक्त में ही देना होगा, नहीं तो वायरस ईमेल के जरिए और फैल जाएगा साथ ही पैसे की डिमांड भी बढ़ते रहेगी.

Ransomeware Virus कितने प्रकार के होते है.

Ransomware Cyber Attack Kya Hai ? Ransomware Attack Se Apne System Ko Safe Kaise Rakhe.

Ransomware 2 प्रकार के होते है 1) WinLock और 2) Crypto. इनमें WinLock एक तरह का नॉन-एनक्रिप्शन रैनसमवेयर है जिसे रैनसमवेयर ट्रोजन के नाम से भी जानते हैं. दूसरा, Crypto Ransomware एक ऐसा रैनसमवेयर है जो यूजर के डॉक्यूमेंट को एनक्रिप्ट करते हुए उसे हाईजैक कर लेता है, उसका एक्सटेंशन बदल देता है, और फिर यूजर को फिरौती के रूप में पैसा देने का मैसेज भेजता है. पैसे अक्सर TOR ब्राउजर की मदद से Bitcoin के जरिए लिए जाते हैं.

अपने PC में Ransomware virus का पता कैसे लगाऐ और कैसे remove करे.

अगर आपके कम्प्यूटर की स्पीड स्लो हो रही है और उसमें लगातार अनचाहे मैसेज आ रहे हैं तो ये वायरस होने के संकेत है. Ransomware वायरस के आने के दो सबसे बड़े सोर्स हैं इंटरनेट और एक्सटर्नल हार्डवेयर जो पेन ड्राइव, डीवीडी या हार्डडिस्क हो सकती है. आज हम आपको बता रहे हैं कि आपको अपने विंडोज बेस्ड कम्प्यूटर में से वायरस मालवेयर कैसे सर्च करें और उन्हें कैसे हटाएं.

Step 1. सबसे पहले कम्प्यूटर में वायरस डिफेंडर सॉफ्टवेयर इंस्टॉल करें. ये टूल्स माइक्रोसॉफ्ट ने मुफ्त में अपनी ऑफिशियल साइट पर डॉउनलोड सेक्शन में अवेलेबल करा रखे हैं.

Download Now

Step 2. यहां से अपने ऑपरेटिंग सिस्टम के हिसाब से Windows Defender या malicious software removal tool डाउनलोड कर लें और उसे रन करके इंस्टॉल कर लें.

Step 3. अब अपने पीसी या लैपटॉप को विंडोज की SafeMode में ले जाकर डाउनलोड किए गए डिफेंडर या मालवेयर टूल से डीप स्कैन करके वायरस सर्च ( नीचे दी गई माइक्राेसॉफ्ट लिस्ट में नाम देखकर ) करें और स्क्रीन पर आए इंस्ट्रक्शन्स के अनुसार उन्हें रिमूव करते जाएं.

Note : कई ऐसे वायरस और मालवेयर हैं जो इस तरह की सर्च में पकड़ में नहीं आते हैं, उन्हें रिमूव करने के लिए एक्सपर्ट की हेल्प लें और नॉन पाइरेटेड एंटी वायरस इंस्टॉल करके रखें.

माइक्रोसॉफ्ट ने जारी की है 10 Ransomware लिस्ट 

माइक्रोसॉफ्ट ने अपने कंप्यूटर्स को रैनसमवेयर ( Ransomware ) से बचाने के लिए 10 वाइरस फाइलों की एक लिस्ट जारी की है, रैनसमवेयर विंडोज बेस्ड सिस्टम पर सबसे पहले अटैक कर रहे हैं ऐसे में यूजर्स को अपने सिस्टम में इन 10 फाइल्स को सर्च करके एंटी वाइरस या एंटी-मालवेयर सॉफ्टवेयर की मदद से डिलीट कर देना चाहिए.

अपने pc में सर्च करें ये 10 तरह की फाइल्स जो है virus.

  1. Ransom:HTML/Tescrypt.E
  2. Ransom:HTML/Tescrypt.D
  3. Ransom:HTML/Locky.A
  4. Ransom:Win32/Locky
  5. Ransom:HTML/Crowti.A
  6. Ransom:HTML/Exxroute.A
  7. Ransom:Win32/Cerber.A
  8. Ransom:JS/FakeBsod.A
  9. Ransom:HTML/Cerber.A
  10. Ransom:JS/Brolo.C

Ransomware Attack Se Apne System Ko Safe Kaise Rakhe.

चलिए अब हैम आपको कुछ टिप्स बताते है जिसके चलते आप अपने computer, pc, laptop को Ransomware से सेफ रख सकते है.

1 ) ऑपरेटिंग सिस्टम की सेहत पर ध्यान दें OS को Update करिये.

हर साइबर हमला अपने आप में अलग होता है इस बार हुए ‘Ransomware’ अटैक में विंडोज़ ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलने वाले computer को टारगेट किया गया था लेकिन इसकी चपेट में आने वाले ज़्यादातर कंप्यूटर्स ऐसे थे, जिनका ऑपरेटिंग सिस्टम कई महीनों से अपडेट नहीं हुआ था. माइक्रोसॉफ्ट ने 13 मार्च को एक अपडेट भी जारी किया था, जिसे इंस्टॉल करने से इस तरह के अटैक से बचा जा सकता था तो अपडेट करने में आलस न दिखाएं.

कोशिश करें कि आपके सिस्टम पर लेटेस्ट ऑपरेटिंग सिस्टम इंस्टॉल रहे. ये बात खासतौर पर XP के मोह में पड़े लोगों के लिए लिखी गई है. क्योंकि कि विंडोज़ XP के लिए माइक्रोसॉफ्ट अपडेट देना बंद कर चुका है.

2 ) बैक-अप लेकर रखिये.

जिन पोर्टेबल हार्ड डिस्क्स पर आपने वो सारी फिल्में सेव कर रखी हैं, जो आप कभी नहीं देखने वाले, उनमें कुछ जगह बनाएं. इसमें अपने कंप्यूटर में सेव काम के डाटा की एक ड्यूपलिकेट कॉपी बनाएं. काम का डाटा आपकी बैंक डीटेल्स, ज़रूरी सॉफ्टवेयर और ऐसे वीडियो / तस्वीरें, जो सच में आपके दिल के करीब हों. एक ही दिन में खींची 53 सेल्फी और क्यूट किटेन वीडियो छोड़ देने हैं. ये बैक-अप साइबर अटैक या सिस्टम के क्रैश होने के समय इंश्योरेंस का काम करेगा.

3 ) क्लाउड स्टोरेज काम में लाएं.

ये भी एक तरह का बैक-अप ही है, लेकिन ये आपके पास नहीं रहता. इंटरनेट से जुड़े किसी सर्वर पर रहता है. इंटरनेट पर पेड और फ्री क्लाउड स्टोरेज के कई ऑप्शन मौजूद हैं.

4 ) एंटी वायरस इंनस्टॉल करे.

इंटरनेट इस्तेमाल करने वाले कई लोग ऑनलाइन ऊल-जलूल चीज़ें खरीदने में पैसा बरबाद करते हैं, लेकिन एंटी वायरस खरीदते वक्त उन्हें किफायत का कीड़ा काट लेता है. आप ऐसा न करें. अपनी ज़रूरत के मुताबिक एंटी वायरस इंस्टॉल करें. फ्री एंटी वायरस के मोह से बचें. एंटी वायरस साइबर अटैक का रामबाण इलाज नहीं है, लेकिन यह आपको एक अतिरिक्त सुरक्षा लेयर देता है. ये हर हाल में बेहतर है. इसी के साथ ‘विंडोज़ डिफेंडर’ भी चालू रखें. जिस बारे में हमने ऊपर ही बताया.

Last Word : Ransomware cyber attack क्या है और कैसे – कैसे नुकसान हो सकते है इस वायरस से. साथ ही इन वायरस से कैसे बचा जा सकता है इस बारे में हमने विस्तार से बताने की कोशिश की अगर आपके पास इससे related अन्य कोई जानकारी है तो हमें कमेंट के जरिये बताये.

Read More.

• Let’s Encrypt SSL Certificate Blog Pe Setup Kaise Kare.

• Black Hat SEO v/s White Hat SEO Kya hai aur Kya Kaam Aata Hai Jane Full Guide Details Hindi Me.

• Android Phone Ka Battery Life Increase Kaise Kare [ Best 10+ Tips ].

6 COMMENTS

  1. Cyber attack internet ke online world ki sabse badi pareshani hai. Hume kabhi bhi security ko ignore nahi karna chahiye. Aapn bahut achhi post likhi hai iske liye thanks.

    • is bahumol feedback ke aapka dhanaywad jumedeen bhai, Ransomware attacks ka sabse jayda nuksaan kisi contry ko home wala hai to wo hai india aur aapka diya hua massage un sabhi ko rasta dikhata hai ki hame kabhi bhi online security ko ingnor nhi karna chahiye.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here